भारत केसरी खिताब 2023
भारत केसरी खिताब 2023

11वीं भारत केसरी महा प्रतियोगिता में दिल्ली के कुरैसी पहलवान ने जीता Bharat Kesari Title 2023

घुमारवीं के जीवंत शहर में, जिसे कुलवंत के नाम से भी जाना जाता है, ताकत और कौशल का एक नजारा सामने आया जब भारत के कोने-कोने से सैकड़ों पहलवान प्रतिष्ठित 11वीं भारत केसरी महा प्रतियोगिता के लिए एकत्र हुए। चाहर के पवित्र मैदान पर आयोजित इस कार्यक्रम में चार प्रतिष्ठित खिताबों के लिए तीव्र संघर्ष देखा गया,

जो इन एथलीटों के धैर्य और दृढ़ संकल्प को दर्शाता है। चाहर समिति के प्रमुख जोगेंद्र जोगी के साथ महासचिव कमल ठाकुर ने आयोजित और रोमांचक प्रतियोगिता में अंतर्दृष्टि साझा की, जिसे चार अलग-अलग वर्गों में विभाजित किया गया था। आइए इस भव्य कुश्ती प्रतियोगिता के रोमांचक विवरण के बारे में जानें।

Also Read- Bharat Kesari Winner List

चाहर केसरी खिताब के लिए संघर्ष

चाहर केसरी के बहुप्रतीक्षित खिताबी मुकाबले में पहलवानों ने वर्चस्व के लिए जमकर संघर्ष किया। अंततः, ऊना के अर्शदीप ही थे जो मंडी के दुर्जेय सिद्धार्थ को हराकर विजयी हुए और शानदार खिताब हासिल किया। उनकी जीत के लिए पुरस्कार के रूप में, अर्शदीप को प्रतिष्ठित गुर्ज के साथ 11,000 रुपये की पुरस्कार राशि प्रदान की गई।

दूसरी ओर, बहादुर सिद्धार्थ को हार का सामना करने के बावजूद उनके प्रयासों की सराहना के रूप में 7,000 रुपये मिले।

हिमाचल केसरी खिताब के लिए लड़ाई

हिमाचल केसरी वर्ग में समान रूप से कड़ी प्रतिस्पर्धा देखी गई, जिसमें पहलवानों ने जीत हासिल करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी। विजयी पहलवान को, गुर्ज के साथ, प्रशंसा के प्रतीक के रूप में 31,000 रुपये की पर्याप्त राशि प्रदान की गई।

इस बीच, हार का सामना करने वाले वीर पहलवान को खेल के प्रति उनके समर्पण और प्रतिबद्धता को स्वीकार करते हुए 25,000 रुपये मिले।

दिलचस्प भारत कुमार टाइटल फाइट

आयोजकों ने भरत कुमार के लिए एक दिलचस्प और आकर्षक खिताबी लड़ाई की सावधानीपूर्वक व्यवस्था की थी, जहां पहलवानों ने अपने वजन और उम्र की परवाह किए बिना प्रतिस्पर्धा की। लगभग डेढ़ लाख रुपये का एक बड़ा पुरस्कार पूल इस असाधारण श्रेणी के विजेता का इंतजार कर रहा था।

11वीं भारत केसरी महा प्रतियोगिता

भारत केसरी के प्रतिभाशाली दावेदारों में से दिल्ली के कुरेशी ने ईरान के कुशल हमीद को हराकर खिताब जीता और लगभग 2.25 लाख रुपये का अच्छा इनाम अपने नाम किया।

भारत केसरी खिताब 2023
भारत केसरी खिताब 2023

महिला पहलवान मंच पर आईं

11वीं भारत केसरी महा प्रतियोगिता में महिला पहलवानों की असाधारण प्रतिभा भी प्रदर्शित हुई। राष्ट्रमंडल स्वर्ण पदक विजेता दिव्या काकरन सेन को विशेष निमंत्रण दिया गया था, जिन्होंने अपने उल्लेखनीय युद्धाभ्यास और कौशल से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया था।

उनके साथ, हिमाचल की प्रसिद्ध महिला पहलवान कृतिका और सोनिका ने अपने असाधारण कौशल का प्रदर्शन किया, जिससे इस आयोजन में सुंदरता और शक्ति का तत्व जुड़ गया।

Also Read- IPL 2023 Team List

निष्कर्ष

घुमारवीं (कुलवंत) में आयोजित 11वीं भारत केसरी महा प्रतियोगिता भारतीय पहलवानों के जुनून और समर्पण का प्रमाण थी। इस आयोजन ने देश के सभी कोनों से एथलीटों को चार शानदार खिताबों के लिए प्रतिस्पर्धा करने के लिए एक साथ लाया। जोशीले संघर्ष, तीव्र प्रतिद्वंद्विता और खेल कौशल के प्रदर्शन ने इसे एक अविस्मरणीय दृश्य बना दिया।

जैसे ही विजेताओं ने अपने योग्य गौरव और पुरस्कारों का आनंद लिया, यह आयोजन भारत की समृद्ध कुश्ती विरासत और इस प्राचीन खेल को बढ़ावा देने की प्रतिबद्धता के प्रमाण के रूप में कार्य किया।

चाहर केसरी और हिमाचल केसरी खिताबों के लिए तीखी झड़पों से लेकर भारत कुमार खिताब के लिए दिलचस्प नो-वेट नो-एज प्रतियोगिता तक, प्रतियोगिता ने भारतीय कुश्ती में प्रतिभा की विविधता और गहराई का प्रदर्शन किया। इसके अलावा, महिला पहलवानों को शामिल करने और उनके असाधारण प्रदर्शन ने खेलों में महिलाओं की बढ़ती मान्यता और सशक्तिकरण पर प्रकाश डाला।

जैसे ही धूल छंट गई और भीड़ की जय-जयकार गूंज उठी, 11वीं भारत केसरी महा प्रतियोगिता ने प्रतिभागियों और दर्शकों पर समान रूप से प्रभाव छोड़ा। इसने खेल भावना, एकता और उत्कृष्टता की निरंतर खोज का जश्न मनाया, जिससे यह भारतीय कुश्ती इतिहास के इतिहास में एक उल्लेखनीय घटना बन गई।

FAQs

भारत का वर्तमान पहलवान कौन है?

टोक्यो 2020 के रजत पदक विजेता रवि कुमार दहिया तीन बार के मौजूदा एशियाई चैंपियन हैं, जिससे वह यह उपलब्धि हासिल करने वाले पहले भारतीय पहलवान बन गए हैं। उन्होंने 2019 विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य पदक भी हासिल किया।

भारत का नंबर 1 पहलवान कौन है?

बजरंग पुनिया 4 विश्व चैम्पियनशिप पदक (1 रजत, 3 कांस्य) जीतने वाले एकमात्र भारतीय पहलवान हैं। इसके अलावा, उनके पास एशियाई खेलों और राष्ट्रमंडल स्वर्ण पदक भी हैं। उनकी सबसे महत्वपूर्ण उपलब्धि 2020 टोक्यो ओलंपिक की कांस्य पदक जीत है।

वर्तमान में भारत का पहलवान कौन है?

भारतीय पहलवानों ने विभिन्न भार वर्गों में उत्कृष्ट सफलता हासिल की: बजरंग पुनिया (पुरुष 65 किग्रा), दीपक पुनिया (पुरुष 86 किग्रा), और साक्षी मलिक (महिला 62 किग्रा) ने स्वर्ण पदक हासिल किए। अंशू मलिक (महिला 57 किग्रा) ने रजत पदक अर्जित किया, जबकि दिव्या काकरान (68 किग्रा) और मोहित ग्रेवाल (फ्रीस्टाइल 125 किग्रा) ने गर्व से कांस्य पदक जीता।

भारतीय कुश्ती खिलाड़ी कौन है?

बजरंग पूनिया, विनेश फोगाट, अंशू मलिक, साक्षी मलिक, सत्यव्रत कादियान, अमित पंघाल, दीपक पूनिया, रवि दहिया, संगीता फोगाट, सोनम मलिक, सरिता मोर, महावीर फोगाट और कुलदीप मलिक समेत करीब 30 पहलवान हड़ताल पर हैं। बजरंग पुनिया ने टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीता और राष्ट्रमंडल खेल 2022 में स्वर्ण पदक जीता।

दुनिया का सबसे बड़ा पहलवान कौन सा है?

एक अभूतपूर्व क्षण में, सैंडो ने सहजता से 280 पाउंड वजन उठाया। दर्शकों को और भी आश्चर्यचकित करते हुए, उन्होंने लोहे की दो मोटी छड़ें तोड़ दीं। इस उल्लेखनीय उपलब्धि ने सैंडो को बहुत प्रसिद्धि दिलाई, उसके वित्तीय लाभ को पीछे छोड़ दिया और उसे एक घरेलू नाम बना दिया।

भारत का सर्वश्रेष्ठ पहलवान कौन है?

सुशील कुमार एकमात्र भारतीय पहलवान हैं जिन्होंने कुश्ती विश्व चैंपियन का प्रतिष्ठित खिताब हासिल किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.